रविवार, फ़रवरी 25, 2024
होमKahaniरियल लाइफ स्टोरी इन हिंदी: दिल को झकझोर देने वाली कहानी

रियल लाइफ स्टोरी इन हिंदी: दिल को झकझोर देने वाली कहानी

आजकल की इस भागम भाग की दुनिया में इंसान कभी कभी बहुत सी चीजों को पीछे छोड़ जाता है. चाहे वो पुराना रिश्ता हो, दोस्ती हो या हमसे जुडी कोई ऐसी चीज हो जो हमारे से जिंदगी भर से जुडी हो. लोग कहते हैं पैसा ही सब कुछ है लेकिन मेरा मानना ये है की जब रिश्ता और हमारे अपने ही नहीं रहे तो पैसे का क्या करोगे. रियल लाइफ स्टोरी इन हिंदी के इस संस्करण में इसी प्रकार की एक ऐसी घटना के बारे में मैं जिक्र करने जा रहा हूँ जिसके बारे में जानकर आपका का भी दिल जरूर एक बार सोचने को विमर्श हो जायेगा.

रियल लाइफ स्टोरी इन हिंदी

मैं एकबार मार्किट गया और वहा पे एक बूढ़े दादा को और एक बूढी दादी को हमेसा रोड पे बैठे कुछ छोटी छोटी चीजे बेचते देखता रहता था. दिल तो करता था की पुछ लूँ कि इतनी उम्र में भी क्यों रोड पे बैठ के ऐसे काम करते हैं लेकिन पूछ नहीं पाया बूत इस बार अपने को रोक नहीं पाया और इस दिन मैंने पूछ ही लिया. पूछने के बाद जो चीज उन्होंने मुझे आपबीती बताई वो सुन कर मुझे तो समझ ही नहीं आ रहा था की क्या बोलूँ. मेरी जुबान से आवाज ही नहीं निकल रही थी बल की मेरे आँखों से आंसू आ गए.

दोस्तों पैसा भी जरुरी है लेकिन पैसा न रहे तो भी हम जी सकते हैं लेकिन अगर इंसानियत खत्म हो जाये तो इन्सान ज्यादा दिन नहीं जी सकता. इंसानियत खत्म होने से हम कभी कभी अपनों को भी खो बैठते हैं. दोस्तों उस दिन मैंने जब उन बूढ़े दादा दादी से उनके बारे में और उनके परिवार के बारे में पूछ तो उनके जबाब सुनकर मैं बहुत ही दुखी हो गया. उन्होंने बताया उनका एक बेटा है. उसको उन्होंने बहुत पढ़ाया लिखाया, बीटा पढाई में बहुत अच्छा था. और वो लोग चाहते थे बेटा एक दिन पढ़ लिख कर बहुत बड़ा आदमी बने इसलिए उन्होंने उसको अच्छी पढ़ाई लिखाई कराई. लड़के इंजीनियरिंग कराई. बेटा इंजीनियर बन गया उन लोगों को बहुत ख़ुशी हुई और बेटे को अच्छे ऑफर भी आने लगे बड़ी बड़ी कंपनी से. बेटे को एक बहुत ही अच्छा ऑफर आया बाहर के देश से जिस देश में हर कोई का खाव्ब होता है जाना.

बेटे का विदेश में नौकरी लग गया

वे दोनों बहुत खुश हुए कि बेटे का विदेश में नौकरी लग गई वो भी सैलरी लाखों में. हर किसी के म पब की इच्छा होती ही है की उसका बेटा पढाई करके अच्छी नौकरी पा ले. उन्होंने ख़ुशी ख़ुशी बेटे को विदेश में नौकरी करने को भेज दिया. बेटा भी बहुत खुश था उसकी भी इच्छा थी की अमेरिका जैसे देश में नौकरी मिल जाये. बेटा नौकरी करने विदेश चला गया. उन्होंने बेटे को पढ़ाने में अपनी पूरी पूंजी लगा दी. बेटा विदेश जाने के बाद हर दो चार दिन पे घर पे फ़ोन करके हलचल लेता रहता था. उनलोगों को भी काफी फिक्र रहती थी आखिर इतने सालों बाद बेटों को अपने से कही दूर भेजा है. बेटा ऐसे कभी कुछ हफ्ते बाद हालचाल ले लेता था माँ बाप की. कुछ पैसे भी भेज दिया करता था. करीब 10 या 11 महीने हो गए फिर बेटा 2 या 3 महीने पे फ़ोन किया करता था जब वो बोलते कि अब क्यों फ़ोन नहीं करते तो बेटा बोलता मैं काम में बहुत व्यस्त रहता हूँ. आजकल काम ज्यादा करना पड़ता है. कुछ दिन बीत गए अब तो न फ़ोन करता न ही घर पे पैसे भेजता. माँ बाप भी उसी पे आश्रित थे. ये सब बाते बताते हुए उन दोन के आँखों से आंसू रुक नहीं रहे थे.

कुछ दिन बाद बेटे का फ़ोन भी आना बंद हो गया

घर पे वो लोग काफी परेशान हो गए उसका फ़ोन भी नहीं लग रहा था. फिर एक दिन कई महीनो बाद बेटे ने फ़ोन किया. लेकिन एकबार भी नहीं पूछा की आप लोग कैसे जी रहे हो पैसे है या नहीं. बस ऐसा लग रह था ऊपर के मन से पूछ रहा था की आप लोग ठीक है न. सब बात करने के बात जो उसने बताया उससे दोनों लोग अनजान थे. उसने बताया अमेरिका में उसने शादी कर ली है. ये सुन के दोनों लोग खुश भी हुए लेकिन दुखी भी की बेटे ने उन्हें एक बार भी नहीं बताया कि वो शादी करने जा रहा है. हालाँकि उन्हें कोई दिक्कत नहीं था बल्कि सोचे चलो कोई बात नहीं अपने मन मुताबिक अपने से अपनी जीवन साथ चुन लिया. ये बताने के बाद उसने फ़ोन रख दिया. माँ बाप ज्यादा कुछ पूछ भी नहीं पाए कि अपने घर वापस कब आ रहे हो और भी उनके मन में बहुत सी बाते थे जो अपने बेटे से करनी थी. लेकिन हो न सका.गुजर भी नहीं हो पा रहा था एक केवल घर था गांव में खेती की जमीन भी नहीं थी कि उससे भी कुछ गुजारा हो सके.

बेटे ने अमेरिका में शादी कर ली

कई महि ने हो गए बीटा नहीं कभी फ़ोन कर्त आना कभी घर पे पैसे भेजता. कई महीने बाद गुजर जाने के बाद बेटे ने फ़ोन किया माँ इतना सुनि कि बेटे ने फ़ोन किया है तो वो तुरंत फ़ोन ले लेती है और बोलती हैं बेटा तू घर आजा बहुत दिन हो गए तुझे देखे हुए. मेरी आँखे तरस गयी हैं तुझे देखने के लिए. तू जल्दी से घर चला ा और साथ में बहु को भी घर जरूर लाना. बेटे ने बोलै जरूर माँ जल्दी ही घर आ जाउंगा. बेटे ने घर पे माँ बाप के लिए कुछ पैसे भी लगाए और बोला की वो अगले महीने वो भारत वापस आ रहा है. दोनों माँ बाप बहुत ही खुश थे कि बेटा इतने दिन के बाद घर वापस आ रहा है. अगले महीने बेटा अपनी पत्नी के साथ घर आ जाता है.

कुछ दिन बीतते हैं और बीटा हमेसा बात बात में गुस्सा हो जाता है उसकी पत्नी से ज्यादा बात नहीं हो पाती थी क्योंकि भाषा की दिक्कत थी इंग्लिश बोलने वाली बहू जो लेके आये थे. कुछ दिन बाद बेटे ने झगड़ आकरके वापस अमेरिका चला गया. कई साल बीत गए आज इतनी उम्र भी हो गयी कुछ काम करने को समर्थ नहीं है. बेटा अमेरिका जाने के बाद आज तक कई साल बीत गए पैसा तो छोड़ो कभी फ़ोन भी नहीं किया क्या उसके माँ बाप जिन्दा भी हैं या नहीं.

 

यही मज़बूरी है उनकी कि जो बची खुछ थोड़ी सी जिंदगी है उसको जीने के लिए को रस्ते पे बैठ  के कुछ थोड़ा मोड़ा कमा लेते हैं जिससे कुछ तो गुजारा करने में मदद मिल जाती है. वो बताते हैं कभी कभी तो कुछ भी कमी नहीं हो पाती. ये सारी चीजे ये उनकी बाते सुन के जैसे मैं हिल गया. माँ बाप बड़े खुश होते हैं की बेटा बड़ा होने पे बुढ़ापे में उनका सहारा बनेगा, लेकिन जब ऐसी कहानियां सुनने को मिलती हैं तो सच में दिल यही करता है की अपने बच्चो के लिए भी करो लेकिन अपने बुढ़ापे के लिए भी बचा के रखो ताकि बुढ़ापे में ये सब न  देखना पड़े.

वहां से जाते जाते मेरे से जो हो सका मैं े उनकी कुछ अपनी तरफ से मदद की लेकिन मैं ये बात जरूर कहना चाहूंगा. की इंसान जितना भी कमा ले जितन अभी बढा क्यों न बन जाये अगर उसने अपने लोगो की देख रेख नहीं की तो उसकी सारी धन दौलत का कोई फायदा नहीं. माँ बाप ही हमारे असली भगवान और सब कुछ हैं क्यों जो भी है इस समय उन्हीं की बदौलत है. माँ तो ऐसी होती है की अपने भूखे रह जायेगी लेकिन अपने बच्चों को कभी भूखा नहीं सोने देती.

Read more:

गोस्वामी तुलसीदास का जीवन परिचय

निष्कर्ष

इस कहानी से हमें एक सिख तो जरुर मिली कि हम अपने बच्चों के साथ साथ अपने बुढ़ापे के लिए भी अपने लिए जरूर करना चाहिए ताकि हमारे साथ भी ैस न हो सके. हा लङकी सभी बच्चे ऐसे नहीं होते और हमारा कर्तव्य होता है की हम भी उनको कुछ ऐसा मौल प्रदान करे. दोस्तों मुझे उम्मीद है ये रियल लाइफ स्टोरी इन हिंदी आप लोगों को जरूर पसंद आई होगी. अगर आप लोगों को ये स्टोरी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों और करीबियों के साथ जरूर शेयर करे और कमेंट करे जीएससे अच्छा रिस्पांस मिला तो इसी तरह की और भी कहानियां आप लोगों के लिए जरूर लाऊंगा. कहानियों के साथ साथ हम अपने इस ब्लॉग वेबसाइट से शिक्षा से जुड़े पोस्ट भी लेते रहते हैं उसे भी आप जरुर पढ़े|

Suraj
Surajhttps://governmentcolleges.com
Suraj Rajbhar is the author and founder of Governmentcollege.com.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisment -

Latest