रविवार, फ़रवरी 25, 2024
होमBiographyजयशंकर प्रसाद का जीवन परिचय | Jaishankar Prasad ka Jivan parichay

जयशंकर प्रसाद का जीवन परिचय | Jaishankar Prasad ka Jivan parichay

जयशंकर प्रसाद का जीवन परिचय: जयशंकर प्रसाद आधुनिक हिंदी साहित्य के सबसे महत्वपूर्ण व्यक्तियों में से एक थे। वह एक कवि, उपन्यासकार, नाटककार और निबंधकार थे और उनकी रचनाएँ आज भी व्यापक रूप से पढ़ी और पढ़ी जाती हैं।

जयशंकर प्रसाद का जीवन परिचय

जयशंकर प्रसाद का जीवन परिचय

प्रसाद का जन्म 30 जनवरी, 1889 को वाराणसी, भारत में हुआ था। वह एक धनी परिवार से थे, लेकिन जब वह सिर्फ 11 वर्ष के थे, तब उनके पिता की मृत्यु हो गई और जब वह 15 वर्ष के थे, तब उनकी माँ की मृत्यु हो गई। इससे प्रसाद को अपनी देखभाल स्वयं करनी पड़ी, और उन्हें अपनी शिक्षा के माध्यम से अपना भरण-पोषण करने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ी।

Jaishankar prasad in hindi

कठिनाइयों का सामना करने के बावजूद, प्रसाद ने अपनी पढ़ाई में उत्कृष्टता हासिल की। उन्होंने वाराणसी के क्वींस कॉलेज में दाखिला लिया, जहाँ उन्होंने अंग्रेजी, संस्कृत और हिंदी का अध्ययन किया। उन्होंने छोटी उम्र में ही कविता और कथा साहित्य लिखना भी शुरू कर दिया था।

कॉलेज से स्नातक होने के बाद, प्रसाद ने कुछ वर्षों तक पत्रकार के रूप में काम किया। इसके बाद उन्होंने पूर्णकालिक लेखन की ओर रुख किया और उनका पहला कविता संग्रह, चित्रधर, 1914 में प्रकाशित हुआ। इसके बाद उपन्यासों, नाटकों और निबंधों की एक श्रृंखला आई, जिनमें कफन (1918), स्कंदगुप्त (1928), और कामायनी शामिल हैं। (1935)

प्रसाद की रचनाएँ उनकी सुंदरता, उनकी गहराई और भारतीय संस्कृति और इतिहास की खोज के लिए उल्लेखनीय थीं। वह भाषा के विशेषज्ञ थे, और कल्पना और प्रतीकवाद का उनका उपयोग अक्सर लुभावनी होता था। उनकी रचनाएँ भी गहन दार्शनिक थीं, और उन्होंने प्रेम, हानि, मृत्यु और जीवन के अर्थ के विषयों की खोज की।

प्रसाद छायावाद आंदोलन में एक अग्रणी व्यक्ति थे, जो एक साहित्यिक आंदोलन था जो सौंदर्य, भावना और प्रतीकवाद पर जोर देता था। उनकी रचनाएँ अत्यधिक प्रभावशाली थीं और उन्होंने आधुनिक हिंदी साहित्य की दिशा को आकार देने में मदद की।

प्रसाद का 14 जनवरी, 1937 को 47 वर्ष की आयु में वाराणसी में निधन हो गया। वह हिंदी साहित्य में एक महान व्यक्ति थे, और उनकी रचनाएँ दुनिया भर के लोगों द्वारा पढ़ी और पढ़ी जाती हैं।

यहां प्रसाद की कुछ सबसे प्रसिद्ध रचनाएँ हैं:

चित्रधर (1914)

कफ़न (1918)

स्कंदगुप्त (1928)

कामायनी (1935)

रघुवर्षा (1936)

जीवन प्रभास (1937)

Read more:

इंग्लिश बुक पढ़ना कैसे सीखें

प्रसाद एक प्रखर अनुवादक भी थे और उन्होंने अंग्रेजी, संस्कृत और बंगाली की कई रचनाओं का हिंदी में अनुवाद किया।

प्रसाद भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मानों में से एक, पद्म भूषण के प्राप्तकर्ता थे। उन्हें भारत के सर्वोच्च साहित्यिक पुरस्कार साहित्य अकादमी पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था।

प्रसाद की विरासत विशाल है. उन्हें सर्वकालिक महान हिंदी लेखकों में से एक माना जाता है, और उनकी रचनाएँ दुनिया भर के लोगों द्वारा पढ़ी और पढ़ी जाती हैं।

Suraj
Surajhttps://governmentcolleges.com
Suraj Rajbhar is the author and founder of Governmentcollege.com.
- Advertisment -

Latest