डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें पूरा डिटेल्स में जाने-Distance Education

यह बात हम सभी भली भांति जानते है की आज के समय में शिक्षा का महत्त्व काफी ज्यादा बढ़ चूका है और अगर व्यक्ति शिक्षित ना हो तो उसे प्रकार की आर्थिक और सामाजिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। आज के समय में हर कोई जाता है कि वह उच्च से उच्च स्तर की शिक्षा प्राप्त करें जिससे की वह न केवल अपनी आर्थिक स्थिति को बल्कि अपनी सामाजिक स्थिति को भी बेहतर बना सके जिससे की वह आरामदायक, सम्मानजनक और प्रभावशाली जीवन जी सके। लेकिन कई बार ऐसा होता है जब व्यक्ति किसी कारणवश 12वी कक्षा पास करने के बाद नियमित तौर पर ग्रेजुएशन के लिए कॉलेज या यूनिवर्सिटी में जाने में समर्थ नहीं होता। ऐसे में डिस्टेंस लर्निंग एक बेहतरीन विकल्प होता है! जिसके बारे में हम इस लेख में बात करेंगे और बताएँगे की डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें?

Distance Learning क्या है?

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें
डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें

आज के समय में कौन व्यक्ति नहीं चाहता कि वह एक आरामदायक, सम्मानजनक जीवन जी पाए। यह हर व्यक्ति की इच्छा तो है परंतु शिक्षा के अभाव में यह इच्छा पूरी होना काफी मुश्किल होता है क्योंकि भले ही कोई व्यक्ति अशिक्षित होते हुए आर्थिक रूप से संबंध बन जाए परंतु फिर भी उसे कई तरह की सामाजिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा क्षेत्र में शिक्षा प्राप्त करना व्यक्ति की आर्थिक स्थिति को मजबूत बनाने में भी काफी मदद करता है। इन्हीं सब कारणों के चलते वर्तमान समय में उच्च स्तरीय शिक्षा ग्रहण करना हर व्यक्ति का सपना बन चुका है। आज के समय में हर व्यक्ति कम से कम ग्रेजुएशन तो करने की अच्छा तो लगता ही है जिससे कि वह किसी भी चुनिंदा क्षेत्र की सम्पूर्ण जानकारी ले सके।

भले ही हर व्यक्ति ग्रेजुएशन करना चाहता हो परंतु फिर भी कई कारणों के चलते काफी सारे छात्र नियमित तौर पर यूनिवर्सिटी या कॉलेज जाने में असमर्थ रहते हैं। जॉब, व्यवसाय या किसी चुनिंदा परीक्षा की तैयारी जैसे कई कारणों के चलते छात्र कई बार नियमित तौर पर यूनिवर्सिटी या कॉलेज जाने में असमर्थ रहते है तो ऐसे में Distance Learning सबसे बेहतर विकल्प होता है जो छात्र को सुविधा देता है की वह बिना नियमित तौर पर कॉलेज या यूनिवर्सिटी जाए भी अपना ग्रेजुएशन कोर्स कर सके और डिग्री हासिल कर सके जिससे की उसे आर्थिक और सामाजिक रूप से मजबूत बनने में मदद मिले। डिस्टेंस लर्निंग उन सभी छात्रों के लिए एक वरदान समान विकल्प है जो उन्हें ग्रेजुएशन के साथ अन्य कार्यो के लिए आजादी देता है।

अगर आप Distance Learning के बारे में पहली बार सुन रहे हो और नहीं जानते की डिस्टेंस लर्निंग क्या होती है (Distance Leaning Kya Hoti Hai) तो जानकारी के लिए बता दे की Distance Lerning उच्च स्तरीय शिक्षा ग्रहण करने का एक ऐसा तरीका है जिसमे छात्रों को रोजाना कॉलेज या यूनिवर्सिटी नहीं जाना पड़ता। सामान्य भाषा में कहा जाये तो Distance Learning शिक्षा की वह प्रणाली है जिसमे रोजाना कक्षा में जाने की जरूरत नहीं होती। यानि की अगर देखा जाये तो डिस्टेंस लर्निंग के द्वारा कोई भी छात्र कोई जॉब या व्यवसाय करते हुए या फिर किसी भी चुनिंदा कॉम्पिटिटिव परीक्षा की तैयारी करते हुए ग्रेजुएशन कर सकता है। कई छात्र डिस्टेंस लर्निंग के द्वारा अन्य कार्यो के साथ ग्रेजुएशन कर सकता है।

डिस्टेंस लर्निंग क्यों की जाती है?

आज के समय में हमारे देश में ऐसे कई छात्र है जो चाहते है की वह बिना कॉलेज या यूनिवर्सिटी में जाकर ग्रेजुएशन कोर्स कर सके जिससे की वह अन्य कार्यो जैसे की जॉब, व्यवसाय या फिर किसी अन्य तरह की पढाई जैसे की कॉम्पिटिटिव परीक्षा की तैयारी आदि के लिए समय निकाल पाए। ऐसे छात्रों के पास सबसे बेहतरीन विकल्प यही रहता है की वह डिस्टेंस लर्निंग के द्वारा ग्रेजुएशन करे जिससे वह बिना कॉलेज या यूनिवर्सिटी में जाये अपनी पढाई भी जारी रख सकेंगे और अन्य कार्यो जैसे की जॉब, व्यवसाय और किसी अन्य परीक्षा की तैयारी में अपना समय दे सके और अपने जीवन में आगे बढ़ सके। इसका उपयोग करते हुए वह अन्य चीजों को समय दे पाते है।

अगर आप Distance Learning के बारे में अधिक जानकारी नहीं रखते तो सामान्य सी बात है की डिस्टेंस लर्निग से जुड़े हुए कई सवाल आपके दिमाग में चल रहे होंगे जिनमे Distance Learning क्या है और डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें से जुड़े हुए सवाल शामिल होंगे। इसके अलावा एक सवाल यह भी आपके दिमाग में होगा की आखिर Distance Learning क्यों की जाती है या छात्र Distance Learning क्यों करते है? तो यह बात तो हम सभी जानते की रेगुलर कोलेज या यूनिवर्सिटी जाने में पढाई ठीक तरह से होती है परन्तु जो छात्र इसमें समर्थ नहीं होते वह डिस्टेंस लर्निंग करते है जिससे वह अन्य कार्यो जैसे की जॉब या व्यवसाय या परीक्षाओ की तैयारी के लिए समय निकाल पाए।

वैसे तो देश में आज के समय में अधिकतर छात्र ग्रेजुएशन कोर्स रेगुलर रूप में ही करते है जिसमे वह रोजाना अर्थात नियमित तौर पर अपने कॉलेज या यूनिवर्सिटी में जाते है और कक्षा में बैठकर अध्यापको के द्वारा कोर्स के अनुसार निर्धारित शिक्षा प्राप्त करते है और कॉलेज या यूनिवर्सिटी के द्वारा करवाई जाने वाली कोर्स से सम्बंधित एक्टिविटीज में भाग लेकर अपनी स्किल्स को आगे बढ़ाते है। लेकिन कई बार ऐसा होता है जब छात्र ग्रेजुएशन करना चाहता है अर्थात ग्रेजुएशन की डिग्री लेना चाहता है लेकिन वह कई कारणों के चलते नियमित तौर पर कॉलेज या यूनिवर्सिटी जाने में असमर्थ रहता है। यही कारण है की छात्रों के द्वारा डिस्टेंस लर्निंग की जाती है जिससे की वह अन्य कार्यो में समय देते हुए ग्रेजुएशन कर सके।

Distance Learning के प्रकार

यह बात हम सभी भली भांति जानते है की आज के समय में ना केवल हमारे देश में बल्कि दुनिया के सभी देशो में शिक्षा का महत्त्व काफी ज्यादा बढ़ चूका है जिसका मुख्य कारण यह है की उच्च स्तरीय शिक्षा प्राप्त करना ना केवल आपको आर्थिक समस्याओ से बचने में मदद करता है बल्कि साथ में आपको सामाजिक तौर पर भी एक मजबूत व्यक्तित्व देने में मदद करता है। आज के समय में हमारे देश में ऐसे कई छात्र है जो उच्च स्तरीय शिक्षा ग्रहण करना चाहते है अर्थात ग्रेजुएशन करना तो चाहते है लेकिन वह नियमित तौर पर कॉलेज या यूनिवर्सिटी आदि जाने में सक्षम नहीं है। ऐसे मे Distance Learning एक बेहरतीन उपाय है, जिसके प्रकार कुछ इस प्रकार है:

ग्रेजुएशन कोर्स के लिए डिस्टेंस लर्निंग: डिस्टेंस लर्निंग शिक्षा के क्षेत्र में एक क्रांति जैसा है जो छात्रों को नियमित कॉलेज या यूनिवर्सिटी आदि ना आते हुए भी शिक्षा प्राप्त करने का मौका देता है। डिस्टेंस लर्निंग के बारे में तो हम आपको बता ही चुके हैं की यह क्या होता है लेकिन अगर अब इसके प्रकारों के बारे में बात की जाए तो डिस्टेंस लर्निंग का एक मुख्य प्रकार ग्रेजुएशन कोर्स के लिए डिस्टेंस लर्निंग होता है जिसमे डिस्टेंस लर्निंग के द्वारा कॉलेज यूनिवर्सिटी न जाते हुए भी ग्रेजुएशन कोर्स किया जाता है और डिग्री ली जाती है।

मास्टर कोर्स के लिए डिस्टेंस लर्निंग: यह बात हम सभी बड़ी-बड़ी जानते हैं कि वर्तमान समय में से काफी चर्चा में रहे जो नियमित तौर पर कॉलेज हैं यूनिवर्सिटी जाने में समर्थ नहीं होते क्योंकि उन्हें अन्य कार्य रहते हैं अर्थात मैं अपना समय जो भी है व्यवसाय में रहते हैं यदि किसी अन्य परीक्षा की तैयारी करते हैं। इनमें से काफी सारे छात्र मास्टर कोर्स करना चाहते है, तो ऐसे में डिस्टेंस लर्निंग उनकी मदद कर सकती है क्योंकि मास्टर कोर्स के लिए डिस्टेंस लर्निंग भी डिस्टेंस लर्निंग का एक प्रकार है। अर्थात डिस्टेंस लर्निंग के द्वारा यह किया जा सकता है।

डिप्लोमा कोर्स के लिए डिस्टेंस लर्निंग: आज के समय में ऐसे काफी सारे छात्र है जो डिप्लोमा कोर्स करना पसंद करते है जिससे कि वह अपने ज्ञान और स्किल्स वृद्धि कर सके और उस आधार पर अपना करियर बना सके अर्थात कोई जॉब प्राप्त कर सके या फिर कोई व्यवसाय बना सके। लेकिन कई छात्रों के पास कई अन्य कारणों के चलते डिप्लोमा कोर्स के लिए नियमित तौर पर कॉलेज और यूनिवर्सिटी जाने का समय नहीं होता तो ऐसे में इसके लिए भी एक बेहतरीन विकल्प डिस्टेंस लर्निंग है क्युकी यह इसका एक प्रकार है।

Distance Learning के द्वारा कौन कौन से कोर्स किये जा सकते है?

वर्तमान समय में हमारे देश में से काफी सारे छात्र मौजूद है जो नियमित तौर पर कॉलेज या यूनिवर्सिटी जाने में समर्थ नहीं है जिसका मुख्य कारण उनका किसी जॉब या व्यवसाय में समय देना जरूरी होता है या फिर वह किसी और परीक्षा की तैयारी कर रहे होते हैं आदि होता है। ऐसे में इन छात्रों के पास एक बेहतरीन विकल्प होता है कि बाय डिस्टेंस लर्निंग के द्वारा अपनी पढ़ाई अर्थात ग्रेजुएशन कोर्स मास्टर कोर्स या फिर डिप्लोमा आदि जारी रख सकते हैं। ऐसे काफी सारे छात्र है जो डिस्टेंस लर्निंग करने की सोच रहे है और उन्हें यह जानना है कि आखिर वह डिस्टेंस लर्निंग के द्वारा कौन-कौन से कोर्स कर सकते हैं, तो बता दे की डिस्टेंस लर्निंग के द्वारा किए जा सकने वाले कोर्स कुछ इस प्रकार है:

  • बैचलर ऑफ़ लॉ (Bachelor of Law)
  • बैचलर ऑफ़ कंप्यूटर एप्लीकेशन (Bachelor of Computer Application)
  • हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट स्टडीज (Hospitality Management Studies)
  • बैचलर ऑफ़ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (Bachelor of Business Administration)
  • बैचलर ऑफ आर्ट्स (Bachelor of Arts)
  • बैचलर ऑफ साइंस (Bachelor of Science)
  • मास्टर ऑफ़ कॉमर्स (Master of Commmerce)
  • बैचलर ऑफ़ एजुकेशन (Bachelor of Education)
  • ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट (Human Resource management)
  • मास्टर ऑफ़ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (Master of Business Administration)
  • बैचलर ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन (Bachelor of Journalism and Mass Communication)
  • मास्टर ऑफ़ साइंस इन एप्लाइड साइकोलॉजी (Master of Science in Applied Psychology)
  • बैचलर ऑफ कॉमर्स (Bachelor of Commerce)

यह तो वह कुछ सामान्य कोर्स है जो डिस्टेंस लर्निंग के द्वारा मुख्य रूप से किये जाते है लेकिन इसके अलावा भी काफी सारे कोर्सेज है जो छात्र डिस्टेंस लर्निंग के द्वारा अर्थात बिना कॉलेज  यूनिवर्सिटी जाए कर सकते है और ना केवल कर सकते है बल्कि कर रहे है। ऐसे में अगर आप भी नियमित तौर पर यूनिवर्सिटी या कॉलेज जाने में असमर्थ हो तो आपको जो कोर्स करना है आप उसके बारे में पता कर सकते हो कि वह डिस्टेंस लर्निंग से होता है या नहीं। अगर वह कोर्स डिस्टेंस लर्निंग के द्वारा होता होगा तो आप उसे बिना नियमित तौर पर कॉलेज हैं यूनिवर्सिटी जाए भी आसानी से कर पाओगे। यह आपके लिए एक बेहतरीन विकल्प रहेगा  अन्य चीजों में समय देते हुए डिस्टेंस लर्निंग के लिए।

Distance Learning के फायदे

आज के समय में हमारे देश में ऐसे कई छात्र है जो चाहते है की वह ग्रेजुएशन, मास्टर ग्रेजुएशन या डिप्लोमा कर पाए लेकिन इसके लिए उन्हें कॉलेज या यूनिवर्सिटी ना जाना पड़े। वैसे तो अधिकतर छात्र नियमित तौर पर ही यूनिवर्सिटी या कॉलेज जाकर पढ़ना अर्थात ग्रेजुएशन, मास्टर ग्रेजुएशन या डिप्लोमा आदि करना पसंद करते है लेकिन कई छात्र ऐसे भी है जो ऐसा करने में सक्षम नहीं क्युकी उन्हें अन्य कार्यो में भी समय देना होता है। ऐसे में इन छात्रों के पास सबसे बेहतरीन विकल्प यह रहता है की यह डिस्टेंस लर्निंग के द्वारा ग्रेजुएशन, मास्टर ग्रेजुएशन या डिप्लोमा आदि करे। अगर आप डिस्टेंस लर्निंग के बारे में अधिक नहीं जानते और नहीं जानते की इसके फायदे क्या है, तो वह कुछ इस प्रकार है:

पढाई के साथ नौकरी करना संभव: कई बार पैसो के लिए या अनुभव व कौशल को प्राप्त करने के लिए छात्र पढाई के साथ नौकरी करने के बारे में सोचते है लेकिन अगर कोई व्यक्ति नियमित तौर पर यूनिवर्सिटी या कॉलेज जाता हो तो ऐसे में उसे नौकरी करने में दिक्कत आती है। कई चादरिया चाहते हैं कि वह नौकरी भी कर पाए और अपनी पढ़ाई भी जारी रख सके तो ऐसे में एक बेहतरीन विकल्प डिस्टेंस लर्निंग होता है क्योंकि डिस्टेंस लर्निंग के द्वारा आसानी से पढ़ाई के साथ नौकरी करना संभव है।

कम पैसो में की जा सकती है पढाई: सामान्य तौर पर देखा जाता है कि जब आप कॉलेज या यूनिवर्सिटी जाकर अपनी पढ़ाई करते हो अर्थात रेगुलर कोर्स में एडमिशन लेते हो तो ऐसे में आपको यूनिवर्सिटी के कॉलेज को काफी अच्छी फीस देनी पड़ती है परंतु अगर वही कोर्स आप यूनिवर्सिटी या कॉलेज के द्वारा डिस्टेंस लर्निंग के द्वारा करते हो तो उसमे आपको कम पैसे देने होते है। यानि की अगर आप चाहे तो कम पैसो में अधिक पढाई करने के लिए भी डिस्टेंस लर्निंग के विकल्प का इस्तेमाल कर सकते हो।

समय जा सकता है बचाया: डिस्टेंस लर्निंग आज के समय में शिक्षा के क्षेत्र में हो रही सबसे बेहतरीन कार्य में से एक है जिसके द्वारा छात्र बिना यूनिवर्सिटी है कॉलेज नियमित तौर पर जाए भी अपनी पढ़ाई जारी रख पा रहे हैं और अपनी ग्रेजुएशन, मास्टर ग्रेजुएशन या डिप्लोमा डिग्री ले पा रहे है। डिस्टेंस लर्निंग के आज के समय में कई फायदे है और उन्हीं में से एक फायदा यह भी है कि डिस्टेंस लर्निंग में समय भी बचाया जा सकता है और इस समय को आप जॉब करने या व्यवसाय करने जैसे कार्यो में दे सकते हो। दूरस्थ शिक्षा में भी प्रवेश पाने के लिए आपको अपनी पढ़ाई में बेहतर प्रतिशत की आवश्यकता है। परीक्षा में सटीक प्रतिशत खोजने के लिए बस Marks Percentage Calculator का उपयोग कर सकते हैं।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें पूरा डिटेल्स में जाने

यह बात हम सभी भली भांति जानते है की वर्तमान समय में हमारे देश में हर व्यक्ति यही चाहता है की वह उच्च से उच्च स्तर की शिक्षा प्राप्त करे जिससे की वह ना केवल अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत बना सके बल्कि साथ में सामाजिक तौर अधिक सम्मान प्राप्त कर सके और उसकी रूचि के अनुसार उसके पसंदीदा क्षेत्र में उसका ज्ञान बढ़ सके। आज के समय में ऐसे काफी सारे लोग है जो चाहते है की वह उच्च स्तरीय शिक्षा प्राप्त कर सके अर्थात ग्रेजुएशन, मास्टर ग्रेजुएशन या फिर डिप्लोमा कर सके लेकिन वह नियमित तौर पर कॉलेज या यूनिवर्सिटी जाने में सक्षम नही है। यह वह छात्र होते हैं जिन्हें अन्य कार्यों जैसे कि जॉब या व्यवसाय आदि में भी समय देना पड़ता है।

ऐसे में उनके पास सबसे बेहतरीन विकल्प होता है की वह ग्रेजुएशन डिस्टेंस लर्निंग के द्वारा कर दें। अगर आप नहीं जानते ही डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें तो इसके लिए सबसे पहले आपको यह तय करना होगा कि आपको कौन सा कोर्स करना है, इसके बाद आपको यह ढूढ़ना होगा कि आपका कौन सा नजदीकी कॉलेज वह कोर्स डिस्टेंस लर्निंग के द्वारा करवाता है, इसके बाद आप उस कॉलेज में जाकर डिस्टेंस लर्निंग माध्यम में उस कॉलेज में एडमिशन ले सकते है। इसके बाद आप बस परीक्षाए देकर डिस्टेंस लर्निंग के द्वारा अपना कोर्स पूरा कर सकते है। इस तरह से आप से डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कर सकते हैं, वह भी बेहद आसानी से।

कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप दूरस्थ शिक्षा या नियमित कक्षाओं से निपटने जा रहे हैं, कहीं न कहीं आपको अनुकूलता के लिए फ़ाइलों का रूपांतरण करने की आवश्यकता है। यह online converter वेब-आधारित एप्लिकेशन छात्रों और फैकल्टी के लिए मुफ्त में छवि, दस्तावेज़ और अधिक रूपांतरण के साथ आगे बढ़ने के लिए सबसे अच्छा काम करता है।

Read more:-

The World’s Top 2000 Universities

Best Government Medical Colleges in India

निष्कर्ष!

आज के समय में हमारे देश में से काफी सारे लोग हैं जो चाहते हैं कि वह उच्च से उच्च स्तर की शिक्षा प्राप्त कर पाए और अर्थात वह ग्रेजुएशन कर पाए या मास्टर ग्रेजुएशन कर पाए या फिर डिप्लोमा कोर्स पूरा करें। लेकिन इनमें से काफी सारे छात्र ऐसे होते हैं जिनके पास नियमित तौर पर कॉलेज या यूनिवर्सिटी जाने के लिए समय नहीं होता क्योंकि उन्हें किसी अन्य कार्य जैसे कि अपने व्यवसाय को संभालने में या फिर किसी जॉब को करने में समय देना होता है और काफी सारे छात्र ऐसे भी होते हैं जो किसी अन्य परीक्षा की तैयारी करते हैं तो ऐसे में वह भी नियमित तौर पर कॉलेज नहीं जा पाते। ऐसे में छात्रों के पास सबसे बेहतरीन विकल्प होता है डिस्टेंस लर्निंग, जिसकी पूरी जानकारी हमने आपको इस लेख में दी है और बताया है की डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें? वह भी आसान भाषा में।